MLC FULL FORM IN HIND | MLC क्या हैं?

MLC FULL FORM IN HIND
MLC FULL FORM IN HIND

दोस्तों आज हम MLC Full Form In Hindi इस पोस्ट में MLC का फुल फॉर्म, MLC क्या होता हैं?, यह शब्द किस क्षेत्र का हैं?, इसका इस्तेमाल किस बात के लिए किया जाता हैं?, MLC का चुनाव कैसे किया जाता हैं?, MLC के लिए क्या पात्रता होना चाहिए, कौन कौन से राज्यों मे MLC की सेवा हैं? इसके अलावा और भी बहुत सारी बातों को हमने काफी विस्तार से बताया हैं। आपको MLC के बारे मे अच्छे से जानने के लिए पोस्ट को पुरा पढ़ना जरूरी हैं।

भारत के कुल 6 राज्यों में MLC ( विधान परिषद) का चुनाव होता है। MLC का गठन भारतीय संविधान के अनुच्छेद 169,171(1) एवं 171(2) के तहत किया जाता है। विधानसभा के सदस्यों की संख्या की एक तिहाई MLC के सदस्यों की संख्या होती है, लेकिन जम्मू-कश्मीर राज्य के लिए MLC के कुछ अलग नियम बनाया गया था, लेकिन कुछ समय पहले धारा 370 के समाप्त होने के बाद जम्मू कश्मीर में विधान परिषद ही बंद हो गया है।

विधान परिषद के सदस्यों का अधिकार और विधान सभा सदस्यों का अधिकार एक समान होता हैं। इन दोनों विधान परिषद और विधान सभा के सदस्य को सुरक्षा दस्ते, गाड़ियां और विधायकों के बराबर निर्वाचन क्षेत्र फंड का इस्तेमाल करने का समान अधिकार दिया गया हैं। इन सदस्य का चुनाव अप्रत्यक्ष चुनाव से होता है, जो की सीधे जनता द्वारा नहीं होता।

MLC फुल फॉर्म क्या हैं? (MLC Full Form In Hindi)

MLC इस छोटे शब्द का अंग्रेजी में पूरा नाम Member of Legislative Council यह बनता है। MLC का हिंदी में पूरा शब्द विधान परिषद सदस्य यह होता है। विधान परिषद का एक सदस्य यानी MLC स्थानीय निकायों, स्नातक, राज्य विधान सभा, राज्यपाल और शिक्षकों द्वारा चुना जाता हैं और इनका कार्यकाल 6 साल के लिए होता हैं। इन सदस्य की संख्या में हर दो साल के बाद एक तिहाई सदस्य सेवानिवृत्त हो जाते हैं। उन सेवानिवृत सदस्यों की जगह पर नए सदस्यों का चुनाव किया जाता है।

MLC (एम एल सी) के लिए क्या पात्रता होती हैं?

MLC का लाभ लेने के लिए आप एक भारतीय नागरिक होना जरूरी हैं और उम्र कम से कम 30 साल होना जरूरी हैं। वह व्यक्ती मानसिक रूप से पूरी तरह से स्वस्थ होना चाहिए और जिस राज्य से वह व्यक्ती चुनाव लड़ रहा है, उस राज्य की मतदान की लिस्ट में उस व्यक्ती का नाम होना जरूरी हैं। जो व्यक्ती MLC के लिए चुना जाता है वह व्यक्ती उस समय संसद का सदस्य नहीं होना चाहिए और वह व्यक्ती किसी भी तरह का सरकारी नौकर नहीं होना चाहिए। विधान सभा की क्रिया से विधान परिषद का आकार एक तिहाई कम होता है |

MLC (एम एल सी) का चुनाव कैसे होता है?

विधान परिषद और विधान सभा यह दोनों राज्य सरकार के प्रमुख अंग होते है। विधान परिषद के एक तिहाई MLC के सदस्यों का चुनाव राज्य विधानसभा के सदस्य के द्वारा चुना जाता हैं। बाकी एक तिहाई सदस्यों को नगर पालिका और जिला बोर्ड के सदस्यों द्वारा चुना जाता है। इसके अलावा 1/12 सदस्यों को राज्य के शिक्षकों द्वारा चुनाव किया जाता हैं और अन्य 1/12 सदस्यों को स्नातक पास मतदाताओं द्वारा चुनाव किया जाता हैं। इन सभी दौर से गुजरने के बाद ही एक MLC का चुना होता है।

विधान परिषद के सदस्य नीचे दिए गए तरीके से चुने जाते हैं।

विधान परिषद के एक तिहाई स्थानीय निकायों जैसे नगर पालिका, पंचायत समितियों, ग्राम पंचायत और जिला परिषद के सदस्यों द्वारा चुनाव किया जाता हैं।

एक तिहाई विधान परिषद सदस्य को राज्य विधानसभा के सदस्य के द्वारा चुनाव किया जाता हैं।

ज्ञान या व्यावहारिक जैसे कला, सहकारी आंदोलन, साहित्य, विज्ञान और सामाजिक सेवा जैसे क्षेत्रों में अनुभव वाले व्यक्ती को राज्यपाल द्वारा नामांकित करते हैं।

1/12 विधान परिषद सदस्य को उन राज्य के स्नातक द्वारा चुना जाता है।

राज्य के भीतर शैक्षिक संस्थानों मे कम से कम तीन वर्षों के लिए चुने गए व्यक्तियों द्वारा 1/12 सदस्य को चुना जाता है।

कौन से राज्यो में विधान परिषद की सेवा हैं?

भारत के कुछ राज्यों में लोकतंत्र के उपर की प्रतिनिधि सभा को विधान परिषद कहा जाता है और यह सेवा व्यवस्था कर्नाटक, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, बिहार, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश इन राज्यों में ही उपलब्ध की गई है। साल 2021 के अनुसार भारत के कुल 6 राज्य में विधान परिषद सदस्य से गठित सरकार है। इन सभी बातों के अलावा इंटरनेट पर मौजूद जानकारी के अनुसार ओडिशा, आसाम और राजस्थान इन राज्यों को भारत सरकार की संसद ने स्वयं के विधान परिषद बनाने की मंजूरी दे दिया हैं।

मौजूद जानकारी के अनुसार जम्मू कश्मीर, पांडिचेरी और दिल्ली इन केंद्र शासित प्रदेशों में विधान परिषद का गठन किया हैं।

विधान परिषद का गठन क्या हैं?

विधान परिषद का गठन यह संविधान के अनुच्छेद 169, 171(1) या 171(2) में मौजूद किया गया है। विधान परिषद के गठन की प्रक्रिया कुछ इस प्रकार से होती हैं।

विधान परिषद का गठन किसी भी राज्य में करने के लिए विधानसभा में उपस्थित सदस्यों के दो तिहाई सदस्यों से बहुमत के प्रस्ताव को मंजूर करना बहुत जरूरी होता है। फिर उसके बाद संघीय संसद के पास इस प्रस्ताव को भेजना पढ़ता है।

इसके बाद अनुच्छेद 171 (2) के मुताबिक राज्यसभा और लोकसभा बहुमत से उस प्रस्ताव को पारित करने का काम करती है।

इसके बाद राष्ट्रपति के पास इस प्रस्ताव को हस्ताक्षर के लिए भेज दिया जाता है।

इस प्रस्ताव पे राष्ट्रपति के हस्ताक्षर हो जाने के बाद विधान परिषद के गठन की मंजूरी मिल जाती हैं।

MLC Full Form In Medical (मेडिकल मे MLC फुल फॉर्म क्या होता है?)

मेडिकल के क्षेत्र में MLC का पुरा शब्द Medico Legal Cases यह बनता है। एक मेडिको के कार्य को कानूनी मामले मे किसी चोट या बीमारी आदि के मामले के रूप में परिभाषित किया जा सकता है।

दोस्तों आज आज अपने बहुत ही अच्छे से हमारे MLC Full Form In Hindi इस पोस्ट के माध्यम से अपने MLC के फुल फॉर्म और उससे जुड़ने वाले क्षेत्र के बारे में भी अच्छे से जाना हैं। अपने MLC के बारे मे काफी जानकारी लिया हैं। हमें आशा हैं, की हमारा MLC Full Form In Hindi आपको अच्छा लगा होगा, अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगता हैं, तो इसे अपने दोस्तों के साथ share करे।

यह भी जरूर पढ़े :-
1) MCHC Full Form In Hindi | MCHC क्या हैं?

2) Mobile Me Computer Kaise Chalaye | मोबाइल में कंप्यूटर कैसे चलाते हैं?

3) How To Use Meesho App In Hindi | What Is Meesho App In Hindi

Leave a Comment